इन 5 क्रिएटिव आर्ट्स एंड डिजाइनिंग कोर्सेस कर बना सकते हैं बेहतर कॅरियर, ये है पूरी डिटेल

दोस्तों आज के वक्त में प्रोफेशनल कोर्स का दौर बढ़ता ही जार है। ऐसे में ज्यादातर बच्चों की नजरे क्रिएटिव आर्ट्स एंड डिजाइनिंग कोर्सेस पर रहती हैं। फिर भी हम आपके लिए 5 क्रिएटिव आर्ट्स एंड डिजाइनिंग कोर्सेस लेकर आए हैं।

1. फोटोग्राफी में कॅरियर
डिजाइनिंग से संबंधित पेशों में फोटोग्राफर भी अहम भूमिका निभाते हैं। पेशेवर समाचार पत्र-पत्रिकाओं, न्यूज चैनल्स, एडवर्टाइजिंग एजेंसी के अलावा फैशन फोटोग्राफी, प्रोडक्ट फोटोग्र्राफी तथा मेडिकल फोटोग्राफी में आजकल नौकरी के काफी अवसर सामने आ रहे हैं।

इंटीरियर और आर्किटेक्चरल फोटोग्राफी, फुटवियर या ज्वेलरी फोटोग्राफी भी अहम हैं। इसमें सर्टिफिकेट कोर्स से लेकर मास्टर स्तर के कोर्स मौजूद हैं। कैनवेरा, फोकल, स्नैपिता इसके कुछ सफल स्टार्टअप हैं।

युवाओं को रोजगार के अवसर देने के लिए सरकार की ओर से चमड़े, इलेक्ट्रॉनिक्स, जेम्स एंड ज्वेलरी जैसे परंपरागत क्षेत्रों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। यहां कुछ ऐसे अवसर हैं, जहां रचनात्मकता के साथ विशेष कौशल की दरकार होती है। ये अवसर डिजाइनिंग, मेन्युफैक्चरिंग, सेल्स व मार्केटिंग समेत कई विभागों से संबंधित हैं। इन क्षेत्रों में स्टार्टअप्स भी विकसित हो रहे हैं। डिजाइनिंग के इन परंपरागत क्षेत्रों में रोजगार तलाशने वाले युवाओं के लिए यह साल विशेष होगा।

2. इंटीरियर डिजाइनिंग में कॅरियर
एक अनुमान के अनुसार वर्तमान समय में भारत में करीब एक लाख इंटीरियर डिजाइनरों की मांग है। इस क्षेत्र में ज्यादातर संभावनाएं बड़े शहरों में आर्किटेक्चरल कंपनी, बिल्डिंग कॉन्ट्रैक्टर, होटल इंडस्ट्री में बतौर आर्ट डायरेक्टर, फ्लोरल डिजाइनर, इंडस्ट्रियल डिजाइनर, लैंडस्केप डिजाइनर के रूप में सामने आती हैं।.

यह इंडस्ट्री करीब 20 प्रतिशत सालाना की दर से बढ़ रही है। यह वृद्धि दर इस साल के अंत तक जारी रहेगी। रेजिडेंस इंटीरियर डिजाइनिंग इन इंडिया 2017 की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2021 तक इस इंडस्ट्री में तेजी से विस्तार होगा। .

इन स्किल्स की है मांग: इस क्षेत्र में लंबे समय तक टिके रहने के लिए3-डी मैक्स, ऑटो कैड, फोटोशॉप, गूगल स्केच अप, रेविट आदि सॉफ्टवेयरों का जानकारी होनी जरूरी है। इसमें ऑटोकैड सबसे प्रचलित सॉफ्टवेयर है। .

कोर्स-
बीएससी इन इंटीरियर डिजाइनिंग ' बीआर्क इन इंटीरियर डिजाइनिंग ' डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइनिंग ' सर्टिफिकेट कोर्स इन इंटीरियर डिजाइनिंग ' पीजी डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइनिंग.

कुछ प्रमुख स्टार्टअप्स- टेस्टमेकर, कोकांटेस्ट, हच, मटेरियलिस्ट, होमोपोलिस.

3. लेदर एंड फुटवियर डिजाइनिंग में कॅरियर
लेदर टेक्नोलॉजी में डिजाइनिंग शिामल हो जाने से इसका महत्व और अधिक बढ़ गया है। भारतीय लेदर व फुटवियर इंडस्ट्री के उत्पादों की मांग देश-विदेश दोनों जगहों पर बढ़ रही है। ज्यादातर विकल्प फुटवियर डिजाइनर, प्रोडक्शन को-ऑर्डिनेटर, क्वालिटी कंट्रोलर, पैकिंग एक्सपर्ट, स्टोर इंचार्ज व अकाउंटेंट के रूप में मिलते हैं। .

कोर्स-
बीटेक इन लेदर टेक्नोलॉजी ' डिप्लोमा कोर्स इन फुटवियर टेक्नोलॉजी

4. डायमंड एंड ज्वैलरी सेक्टर में कॅरियर
यह इंडस्ट्री अब एक सशक्त रोजगार का साधन बन चुकी है। इंडियन जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री की एक रिपोर्ट के अनुसार यह क्षेत्र देश की जीडीपी में करीब 6-7 प्रतिशत का योगदान दे रहा है। साल 2022 तक करीब 80 लाख लोग इस इंडस्ट्री से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ेंगे। एक अनुमान के मुताबिक इस समय करीब 46 लाख लोग इस इंडस्ट्री से प्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए हैं। आजकल ज्वैलरी प्रोडक्शन हाउस, ज्वैलरी कारखानों, शोरूम, सेल्स व मार्केटिंग क्षेत्र में बतौर ज्वैलरी डिजाइनर, प्रोडक्ट डेवलपमेंट ऑफिसर, मर्चेंडाइजर आदि के रूप में काम मिल रहा है। .

इस सेक्टर में जमने के लिएरत्नों की पहचान, उनकी गुणवत्ता की परख, कटिंग, ग्रेडिंग, धातु की विशेषताओं, स्टोन सेटिंग, पॉलिशिंग आदि काम बखूबी आने चाहिए। .

कोर्स-
डिप्लोमा इन डायमंड प्रोसेसिंग ' सर्टिफिकेट कोर्स इन ग्रेडिंग, कटिंग एंड पॉलिशिंग ' डिप्लोमा इन जेम कार्विंग .

5. गारमेंट डिजाइनिंग में कॅरियर
मैटीरियल एवं गारमेंट डिजाइनिंग का सीधा संबंध भारतीय फैशन इंडस्ट्री से है। कारोबार की दृष्टि से यह इंडस्ट्री अव्वल रही है। रोजगार देने के मामले में विभिन्न एक्सपोर्ट हाउस, टेक्सटाइल मिलें, गारमेंट स्टोर चेन, बुटीक, लेदर कंपनियां, ज्वैलरी हाउस एवं फैशन शो के संगठन शीर्ष पर हैं। फैशन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए ही सरकार ने फैशन एंड डिजाइन प्रमोशन काउंसिल (एफडीपीसी) का गठन किया है। यहां फैशन डिजाइनरों को कटिंग असिस्टेंट, स्केचिंग असिस्टेंट, जूनियर डिजाइनर आदि के काम में अवसर मिलते हैं। अपना काम भी शुरू कर सकते हैं।.

कोर्स-
बैचलर ऑफ एसेसरीज डिजाइनिंग ' बैचलर ऑफ डिजाइन (फैशन एंड कम्युनिकेशन) ' बैचलर ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी ' मास्टर ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी .

संस्थान-
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद ' नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी, नवी मुम्बई ' पर्ल एकेडमी
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
इन 5 क्रिएटिव आर्ट्स एंड डिजाइनिंग कोर्सेस कर बना सकते हैं बेहतर कॅरियर, ये है पूरी डिटेल इन 5 क्रिएटिव आर्ट्स एंड डिजाइनिंग कोर्सेस कर बना सकते हैं बेहतर कॅरियर, ये है पूरी डिटेल Reviewed by Rkz Theatre Team on May 16, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.