नए दौर का ब्राइट कॅरियर, जानें क्या है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कोर्स

 आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस (एआई) का फील्ड अभी बिल्कुल नया है, लेकिन इसमें संभावनाएं काफी बढ़ने लगी हैं। सरकार द्वारा बजट में डिजिटल इंडिया के लिए 3,073 करोड़ रुपएका आवंटन किया गया है, जिससे आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) और रोबोटिक्स जैसी फील्ड में ट्रेंड प्रोफेशनल्स की डिमांड तेजी से बढ़ेगी।

गार्टनर की एक रिपोर्ट की मानें, तो वर्ष 2020 तक आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में करीब 23 लाख नई नौकरियां सामने आएंगी। अगर साइंस का फील्ड आकर्षित करता है, तो फ्यूचर केलिहाज से इस उभरते हुए फील्ड में करियर बनाना एक बेहतर ऑप्शन हो सकता है।

माइक्रो सॉफ्ट कंपनी के फाउंडर बिल गेट्स मानते हैं कि आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का क्षेत्र अभी शुरुआती दौर में है। इसके भविष्य में बहुत विकसित या फिर तेजी से बढ़ने कीसंभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में तकनीकें विकसित होने से लोगों की जिंदगी अधिक प्रोडक्टिव और क्रिएटिव हो जाएगी।

इसके अलावा, गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने एक इंटरव्यू में कहाहै कि आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस (एआई) ऐसी टेक्नोलॉजी है, जिसका इस्तेमाल आने वाले दिनों में बहुत सारे क्षेत्रों में देखा जा सकता है। इसका इस्तेमाल कैंसर के इलाज से लेकरक्लाइमेट चेंज से जुड़ी समस्याओं को दूर करने तक में किया जा सकता है।

देखा जाए, तो यह क्षेत्र हाल के वर्षों में तेजी से उभरा है। इस तकनीक ने कार्य को आसान करने के साथ-साथ करियर के नए रास्ते भी खेल दिए हैं। यही कारण है कि ऑटोमेशन और आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस इंजीनियर्स की डिमांड तेजी से बढ़ने लगी है।

क्या है आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस
आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का अर्थ है बनावटी तरीके से विकसित की गई बौद्धिक क्षमता, जैसे- रोबोट और ऑटोमेटिक कारें आदि। कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के आधार पर यह कार्य करता है।फ्लाइट्स में ऑटो पायलट मोड, वॉयस रिकॉग्निशन आदि इसी तकनीक पर काम करते हैं। इस बार कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो में एक ऐसा ही रोबोट पेश किया गया था, जो बच्चों कीदेखभाल करेगा।

क्यूरी रोबोट एक ह्यूमोनाइड रोबोट है, जिसे बच्चों की देखभाल करने के लिए तैयार किया गया है। इसमें बच्चों की जरूरत, उनकी देखभाल आधारित कोडिंग की गईहै। यह बच्चे के रोने पर उसकी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम है। यह बच्चों को खाना, दवा आदि दे सकता है। इसके अतिरिक्त रोबोट बच्चों के साथ बड़ों की भी देखभाल कर सकता है।

यह आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का एक अच्छा उदाहरण है। इसकी तकनीक की शुरुआत 1950 के दशक में हुई थी। इसके जरिए कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार कियाजाता है, जिन्हें मानव मस्तिष्क के आधार पर चलाए जाने का प्रयास किया जाता है। आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस वाले सिस्टम के जरिए 1997 में शतरंज के सर्वकालिक महानखिलाडि़यों में शुमार गैरी कास्पोरोव को भी हराया जा चुका है।

कोर्स एंड क्वालिफिकेशन
ऑटोमेशन और आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस में कोर्स करने के लिए कंप्यूटर साइंस, आईटी, मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स और इंस्ट्रूमेंटेशन की
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
नए दौर का ब्राइट कॅरियर, जानें क्या है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कोर्स नए दौर का ब्राइट कॅरियर, जानें क्या है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कोर्स Reviewed by Rkz Theatre Team on May 15, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.