Acting Tips Part-2 : यहां जानें थिएटर के बारें में 10 खास पॉजेटिव बातें

दोस्तों एक्टिंग टिप्स को लेकर हम फिर से थिएटर पर बात करने वाले हैं। इस बार भी हम आपके लिए थिएटर को लेकर कुछ सकारात्मक बातें लेकर आए हैं। जो पिछले टॉपिक में रह गई थी। जिन्हें थिएटर के दौरान अनुभव किया गया है।

दोस्तों हम लोग थिएटर के बारे में कुछ सकारात्मक बातें करते हैं लोग हमेशा नेगेटिव बातें हमेशा करते रहते हैं। कुछ बातें आज नई करेंगे...

1. नुक्कड़ नाटक करने के लिए राजनैतिक पार्टियों और कंपनियों से धन मिलना शुरू हुआ।

2. सरकारों ने नए पुराने ,अच्छे बुरे कलाकारों का भेद ख़त्म कर सबको समान दृष्टि से देखना शुरू किया।

3. रंगमंच को महान कर्मों की श्रेणी में शामिल किया गया।

4. राजनैतिक सामाजिक विचारधाराओं का अंत कर रंगमंच को आज़ाद किया गया।

5. ख़ाली बैठे कई वरिष्ठों को फेस्टिवल्स में काम देकर, पेंशन योजना जैसा प्रभाव उत्पन्न कर उनके परिवारों की मदद की गई।

6. रंगमंच में देश प्रेम की विचारधारा पर ज़ोर दिया गया ,जिस से लोगों में एकजुटता पैदा हुई।

7. अखबारों ने नाटकों के प्रचार प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

8. FB और wats app ने नाटकों और नाटकवालों के लिए प्रचार का नया मंच उपलब्ध करवाया।

9. बिना नौकरी किए भी ,रंगमंच में घर ,गाड़ी जैसी सुविधाएं उपलब्ध हुई, सबके लिए।

10. नाटकवालों के परिवारों ने विरोध के बजाए ,नई संस्थाएँ बना कर ,रंगमंच के विकास में योगदान दिया। रिश्तेदारों ,बच्चों ,भाइयों ,ड्राइवरों ,खाना बनाने वालों को भी रंगकर्मियों से जुड़ाव के कारण धन उपलब्ध करवाया गया। आदर्श भारतीय मूल्यों की स्थापना हुई जैसे स्थापित निर्देशकों को पिता मानना शुरू किया, महिलाओं के प्रति सम्मान में इज़ाफ़ा हुआ।
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
Acting Tips Part-2 : यहां जानें थिएटर के बारें में 10 खास पॉजेटिव बातें Acting Tips Part-2 : यहां जानें थिएटर के बारें में 10 खास पॉजेटिव बातें Reviewed by Rkz Theatre Team on June 27, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.