Career Tips: ये हैं बैंकर बनने के कुछ आसान टिप्स, यहां पढ़ें

वर्तमान समय में भारत में बैंकिंग सेक्टर का इतना विस्तार हो गया है कि वाणिज्यिक और सहकारी बैंकों की 67 हजार से अधिक शाखाएं काम कर रही हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि 2040 तक भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा बैंकिंग हब बन जाएगा। सरकारी तथा प्राइवेट हर जगह युवाओं को रोजगार के बेहतर विकल्प मिलेंगे।

नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन की एक रिपोर्ट के अनुसार बैंकिंग सेक्टर 25 प्रतिशत की दर से ग्रोथ कर रहा है तथा 2021-22 तक करीब सात लाख नई नौकरियां सृजित होंगी।

दूसरी ओर निजी सेक्टर के साथ-साथ को-ऑपरेटिव व रूरल बैंक भी तेजी से अपना विस्तार करने में लगे हैं और आने वाले समय में इनमें डेढ़ से दो लाख लोगों को नौकरी मिलने की संभावना है।

हर साल करीब 40-42 हजार लोग रिटायर भी हो रहे हैं। इससे रोजगार की संभावनाएं भी बन रही हैं। बैंक क्लर्क, पीओ, असिस्टेंट, स्पेशलिस्ट ऑफिसर समेत दर्जन भर पद ऐसे हैं, जिन पर प्रोफेशनल्स की नियुक्तियां होती हैं। कोई युवा यदि बैंकिंग सेक्टर में कदम रखने की सोच रहा है तो वह निश्चिंत होकर अपनी प्लानिंग कर सकता है।

मिलती हैं कई सहूलियतें
पब्लिक व प्राइवेट सेक्टर में बैंकों का विस्तार होने से नौकरियों की बरसात हो रही है। को-ऑपरेटिव व रूरल बैंक के अलावा अन्य बैंक भी ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी शाखाओं का विस्तार कर रहे हैं।

बैंक की तैयारी कर रहे ज्यादातर छात्रों का यही कहना है कि उन्होंने बैंकिंग का प्रोफेशन इसलिए चुना, क्योंकि यहां सुरक्षित करियर है और इसकी सुविधाएं भी अनूठी हैं। इसमें प्रमोशन जल्दी मिलता है। ऐसे में कोई युवा यदि इसमें कदम रखने की सोच रहा है तो उसे योजनाबद्ध तरीके से आगे बढ़ना चाहिए।

इस रूप में भी खुलेगी राह
बैंकिंग में सबसे ज्यादा नियुक्तियां ग्रेजुएशन के बाद ही होती हैं। खासकर कॉमर्स और इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट की पृष्ठभूमि वाले छात्रों को यह क्षेत्र ज्यादा रास आता है। इसके अलावा एमबीए करने के बाद भी जॉब आसानी से मिल जाती है।

लेकिन आप ग्रेजुएट हैं और एग्जिक्यूटिव ऑफिसर या कस्टमर केयर एग्जिक्यूटिव के रूप में किसी प्राइवेट बैंक में काम कर रहे हैं तो ऐसी स्थिति में आप अपने लिए कुछ अतिरिक्त योग्यता हासिल करके भी बैंकिंग सेक्टर में आ सकते हैं।

स्नातक के बाद कॉरेस्पॉन्डेंस या ऑनलाइन एमबीए कर सकते हैं। इसके अलावा फाइनेंस, इंश्योरेंस, मार्केटिंग आदि में एक वर्षीय डिप्लोमा या पीजी डिप्लोमा के जरिए भी इस क्षेत्र में कदम रख सकते हैं। कुछ पद ऐसे भी होते हैं, जिनके लिए कंप्यूटर की किसी खास डिग्री की जरूरत पड़ती है। पद के अनुसार उनके बारे में पता कर सकते हैं।

ये स्किल्स पहुंचाएंगी मदद
बैंकिंग सेक्टर में आप चाहे क्लर्क हों, पीओ हों या मैनेजर, कई ऐसे गुण हैं, जो आपको लंबी रेस लगाने में सहायता दिला सकते हैं। योग्यता के साथ इनवेस्टमेंट बैंकिंग, कॉर्पोरेट फाइनेंस की बेसिक जानकारी, अच्छी कम्युनिकेशन स्किल, प्रॉब्लम सॉल्विंग, मैथ्स पर पकड़़, तनाव को हावी न होने देना, सम-सामयिक हलचलों (खासकर बैंकिंग से जुड़ी) की जानकारी, लीडरशिप क्वालिटी, कस्टमर की जरूरतों को समझने की क्षमता, हंसमुख व्यक्तित्व का होना बहुत जरूरी है। साथ ही उसे प्रोजेक्ट एनालिसिस, के्रडिट अप्रेजल स्किल व बड़े लोन तथा फॉरेन एक्सचेंज की जानकारी होनी चाहिए।

कोचिंग किस कदर है मददगार
बैंकिंग परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग एक माध्यम हो सकता है। इसके जरिए परीक्षा के पैटर्न, अपडेट जानकारी, स्कोरिंग टॉपिक आदि का पता चल जाता है। लेकिन यदि कोई खुद से मेहनत कर सफलता हासिल करना चाहता है तो भी उसे कोई दिक्कत सामने नहीं आएगी। जरूरत बस इसी बात की है कि वह एक्सपर्ट अथवा पूर्व में परीक्षा दे चुके लोगों के नियमित संपर्क में रहे, ताकि हर जरूरी जानकारी उसे समय से मिलती रहे। ऐसे कई लोग हैं, जो बिना कोचिंग का सहारा लिए सफलता के शिखर तक पहुंचे हैं।
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
Career Tips: ये हैं बैंकर बनने के कुछ आसान टिप्स, यहां पढ़ें Career Tips: ये हैं बैंकर बनने के कुछ आसान टिप्स, यहां पढ़ें Reviewed by Rkz Theatre Team on July 26, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.