Career Tips: अगर बनना चाहते हैं डिजाइनर, ये हैं पूरी डिटेल


डिजाइन एक स्पेशलाइज्ड फील्ड है, जहां लोगों की जरूरत के प्रॉडक्ट, सर्विसेज और सिस्टम्स को डिजाइन किया जाता है ताकि वे बेहतर क्वालिटी की लाइफ जी सकें। डिजाइनिंग का यह काम प्रॉडक्ट डिजाइनर करता है। वह मोबाइल डिवाइसेस, व्हीकल्स, फर्नीचर, लाइटिंग, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, खिलौने, घड़ियां, लगेज, जूलरी, बाथ वेयर, टेबल वेयर जैसे प्रॉडक्ट्स की डिजाइन तैयार करते हैं।

नए प्रॉड्क्ट को डिजाइन करने के लिए डिजाइनर्स टार्गेट मार्केट, फंक्शनैलिटी जैसी कई जानकारियां इकट्‌ठी करते हैं और फिर प्रॉडक्ट का कॉन्सेप्ट तैयार करते हैं। इसके बाद मैन्यूफैक्चरर्स को उस प्रॉडक्ट को विजुअलाइज करने में मदद देने के लिए उसे ड्रॉइंग या मॉक-अप के जरिए प्रेजेंट करते हैं।

ब्रिटिश काउंसिल व इंडिया डिजाइन काउंसिल की एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्तमान में डिजाइन मार्केट का केवल 20% हिस्सा ही छुआ गया है। 2020 तक भारत में डिजाइन के बाजार के 188.32 अरब रुपए तक पहुंचने की उम्मीद है।

प्रॉडक्ट डिजाइनर्स की बढ़ेगी मांग
औद्योगिकीकरण के बाद से प्रॉडक्ट डिजाइन का क्षेत्र काफी विकसित हुआ है। अनुमान है कि उत्पाद, ग्राफिक, कम्यूनिकेशन, पैकेजिंग और डिजाइन के दूसरे क्षेत्रों में 2020 तक 62,000 डिजाइनरों की जरूरत होगी।

दरअसल अब टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट के चलते यूनीक और पर्सनेलाइज्ड प्रॉडक्ट्स की मांग बढ़ रही है। यही वजह है कि प्रॉडक्ट डिजाइनर यूजर की लाइफस्टाइल को ध्यान में रखते हुए प्रॉडक्ट डिजाइन करते हैं। अगर आप भी इस फील्ड में कॅरिअर बनाना चाहते हैं तो प्रॉडक्ट डिजाइन में अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स कर सकते हैं।

डिजाइनिंग में रुचि हैतो चुन सकते हैं प्रॉडक्ट डिजाइन का विकल्प

प्रॉडक्ट डिजाइन ग्रेजुएट्स के लिए अवसर

डिजाइन इंस्टीट्यूट्स को इंडस्ट्री द्वारा अब धीरे-धीरे इन्क्यूबेटर्स और एकेडमिक पार्टनर्स के तौर पर देखा जाने लगा है। नए उत्पादों/वैल्यू चेन व स्पॉन्सर स्पेशलिस्ट प्रोजेक्ट्स पर एक्टिव रिसर्च के लिए इंडस्ट्री डिजाइन स्कूल्स के साथ जुड़ना चाहती है। ऐसे में बाजार में प्रॉडक्ट डिजाइनरों के लिए ढेरों अवसर उपलब्ध हो रहे हैं। घरेलू या अंतरराष्ट्रीय डिजाइन फर्मों, एक्सपोर्ट हाउसेज में बतौर प्रॉडक्ट डिजाइनर या मर्केंडाइजर कॅरिअर की शुरुआत कर सकते हैं। 

अपना खुद का लेबल शुरू करके आंत्रप्रेन्योर भी बन सकते हैं। इसके अलावा क्राफ्ट के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ और सरकारी एजेंसियों के साथ जुड़ सकते हैं और क्राफ्ट कम्यूनिटी के विकास में अपना योगदान दे सकते हैं। फैशन ब्रांड्स/लाइफस्टाइल एक्सेसरी ब्रांड्स में एक्सेसरीज डिजाइनर्स की भी बड़े पैमाने पर मांग रहती है।

यही नहीं ऑनलाइन और फिक्स्ड रिटेल स्टोर्स दोनों के लिए विजुअल मर्केंडाइजर के तौर भी आपके लिए कॅरिअर के मौके उपलब्ध होते हैं। प्रॉडक्ट डिजाइन में पीजी और 5 से 6 साल का अनुभव हासिल करने के बाद आप एजुकेशन के क्षेत्र में भी संभावनाएं तलाश सकते हैं।

ये है बेसिक क्वालिफिकेशन

प्रॉडक्ट डिजाइन में अंडरग्रेजुएट कोर्स में दाखिले के लिए बेसिक क्वालिफिकेशन किसी भी स्ट्रीम में 12वीं है और इसमें एडमिशन दो तरह से लिया जा सकता है -

आप डिजाइन इंस्टीट्यूट्स द्वारा आयोजित किए जाने वाले एंट्रेंस एग्जाम में शामिल हो सकते हैं या सीईईडी की परीक्षा दे सकते हैं, जो आईआईटी के बैचलर इन डिजाइन के लिए लिया जाने वाला कॉमन एंट्रेंस एग्जाम है। सीईईडी का स्कोर कुछ अन्य कॉलेजों में एडमिशन के लिए भी मान्य होता है।

प्रॉडक्ट डिजाइन के एंट्रेस एग्जाम में आमतौर पर दो टेस्ट होते हैं - पहला टेस्ट जनरल एप्टीट्यूड और दूसरा क्रिएटिव एप्टीट्यूड। इन दोनों टेस्ट्स के कम्बाइंड स्कोर को ध्यान में रखते हुए ही कॉलेजों में रैंक/सीट ऑफर की जाती है। इसके अलावा कुछ कॉलेज ये दोनों टेस्ट पास करने वाले स्टूडेंट्स का सिचुएशन टेस्ट और पर्सनल इंटरव्यू भी लेते हैं।

इन इंस्टीट्यूट्स से कर सकते हैं कोर्स
देश में सरकारी और प्राइवेट इंस्टीट्यूट्स प्रॉडक्ट डिजाइन के कोर्स ऑफर करते हैं। इनमें कुछ प्रमुख इंस्टीट्यूट्स हैं - एनआईडी, आईआईटी, एनआईएफटी (लाइफस्टाइल एक्सेसरीज डिजाइन), सृष्टि स्कूल ऑफ डिजाइन, पर्ल एकेडमी।
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
Career Tips: अगर बनना चाहते हैं डिजाइनर, ये हैं पूरी डिटेल Career Tips: अगर बनना चाहते हैं डिजाइनर, ये हैं पूरी डिटेल Reviewed by Rkz Theatre Team on August 24, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.