अगर आप भी हैं ऑनलाइन लर्निंग के दीवाने, तो इन पॉइंट्स का हमेशा रखे ध्यान

करियर में उच्च शिक्षा अहम रोल अदा करती है और इसके लिए एंट्रेंस एग्जाम की मजबूत तैयारी बेहद जरूरी है। इस तैयारी में स्टूडेंट्स ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म्स की भी मदद लेते हैं। लेकिन वेब पर मौजूद सैकड़ों की संख्या में से अपने लिए सही प्लेटफॉर्म चुन पाना किसी चुनौती से कम नहीं है। कोर्स की फीस के अलावा ऐसे कई पहलू हैं जिन्हें सही आॅनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म का चुनाव करते हुए स्टूडेंट के लिए ध्यान में रखना जरूरी होता है।

कोर्स के वैरिएंट्स
अगर आप हायर स्टडी के लिए किसी कोर्स की प्रवेश परीक्षा दूसरी बार दे रहे हैं तो ऐसा प्लेटफॉर्म चुनें जहां आपको पूरा कोर्स दोबारा पढ़ने की जरूरत न हो। यानी ऐसा ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म चुनें जहां कोर्स को पार्ट्स या सेक्शन-वाइज पढ़ाया जाता हो। अगर आप फ्रेशर हैं तो उस प्लेटफॉर्म को प्राथमिकता दें, जो बेसिक्स से शुरू कर पूरा कोर्स कवर करता हो। फैसला कोर्स व कवरेज को समझकर लें। वेब पर मौजूद सैकड़ों लर्निंग प्लेटफॉर्म्स में से किसी एक को चुनना चुनौती भरा हो सकता है

टाइम लिमिट-
नौकरी-पेशा, कॉलेज स्टूडेंट्स और साल ड्रॉप करके तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स के लिए तैयारी में लगने वाला टाइम अलग-अलग होता है। इसे ध्यान में रखकर ऐसा कोर्स चुनें जो आपकी टाइम लिमिट में फिट बैठता हो। इस हिसाब से वर्किंग प्रोफेशनल या कॉलेज जाने वाले स्टूडेंट्स के लिए मनचाहे समय पर किए जा सकने वाले कोर्स और वीडियो लर्निंग कोर्स उपयुक्त रहेंगे। इसमें आप काम के साथ स्टडी कर सकेंगे और लाइव ऑनलाइन क्लासेज के टाइम व बैच की बंदिश भी नहीं होगी।

पर्सनलाइज्ड डाउट सॉल्विंग-
आजकल ज्यादातर ऑनलाइन लर्निंग पोर्टल स्टूडेंट्स को आकर्षित करने के लिए पर्सनलाइज्ड डाउट सॉल्विंग की सुविधा देने का वादा करते हैं लेकिन इसमें विफल रहते हैं। इससे जुड़ा सच जानने के लिए आप वर्तमान और पूर्व स्टूडेंट्स से बात कर सकते हैं। पर्सनलाइज्ड डाउट सॉल्विंग की सुविधा होने पर ही उस पोर्टल को चुनें क्योंकि डाउट्स दूर करके ही आप प्रवेश परीक्षा में बेहतर स्कोर हासिल कर सकते हैं।

अलग-अलग यूजर इंटरफेस -
लगभग सभी एंट्रेंस एग्जाम के लिए अलग यूजर इंटरफेस होता है। जैसे कैट का यूआई जीएमएसी के एनमैट के यूआई से अलग है। इसी तरह जैट, स्नैप और सीमैट के इंटरफेस भी अलग हैं। वही इंटरफेस चुनें जो आपके एग्जाम का हो ताकि आप उसी एग्जाम के अनुसार तैयारी कर पाएं। अगर किसी लर्निंग प्लेटफॉर्म के पास हरेक एग्जाम के लिए केवल जेनरिक यूआई है तो उसे आप नहीं चुनें। यह एक महत्वपूर्ण पहलू है।

फैकल्टी अनुभवी हो

आजकल ऑफलाइन कोचिंग इंस्टीट्यूट की तरह ऑनलाइन लर्निंग पोर्टल भी अपनी साख बढ़ाने के लिए टॉपर्स के नाम का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें कई नाम ऐसे भी होते हैं जिन्होंने कभी उस पोर्टल के लर्निंग कंटेंट का इस्तेमाल किया ही नहीं। वे कई बार अपने पूर्व के रिजल्ट और टेस्टिमोनियल्स का झूठा प्रदर्शन भी करते हैं।

ऐसे में इस बात का ध्यान रखना भी जरूरी है कि स्टूडेंट्स् को ऐसे लर्निंग प्लेटफॉर्म से भी नहीं जुड़ना चाहिए, जिनकी फैकल्टी में न तो सब्जेक्ट एक्सपर्ट हैं और न ही उन्होंने उससे जुड़ी कोई परीक्षा ही पास की है। इसलिए अपना फाइनल चुनाव करने से पहले किसी भी लर्निंग प्लेटफॉर्म में स्पेसिफिक कोर्स के लिए कंटेंट तैयार और डिलीवर करने वाली फैकल्टी और एक्सपर्ट्स के अनुभव पर गौर करना बहुत जरूरी है।
(इस लिंक (Acting Tips Video) पर क्लिक कर देखें एक्टिंग से संबंधित कई टिप्स)

NOTE- अगर आप हमारे वेब पोर्टल या उसके लिए कोई सुझाव देना चाहते हैं या फिर न्यूज देना चाहते हैं तो आप हमें मेल भी कर सकते हैं- rkztheatregroup@gmail.com और हमारा व्हाट्सएप नंबर- 08076038847 पर भी हमसे जुड़ सकते हैं। आप हमारे फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल को भी फॉलो कर सकते हैं।
अगर आप भी हैं ऑनलाइन लर्निंग के दीवाने, तो इन पॉइंट्स का हमेशा रखे ध्यान अगर आप भी हैं ऑनलाइन लर्निंग के दीवाने, तो इन पॉइंट्स का हमेशा रखे ध्यान Reviewed by Rkz Theatre Team on September 08, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.